उत्तर कोरिया पर भीषण हमले के लिए तैयार अमेरिकी सेना

14

उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच चल रहे वाक-युद्ध ने दुनिया को तबाही के मुहाने पर ला कर खड़ा कर दिया है। दोनों देशों के प्रमुखों की तरफ से आ रहे वक्तव्य इस माहौल में आग में घी वाला काम कर रहे है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन लगातार विरोधाभासी स्वर में एक दूसरे पर सैन्य हमले की धमकी दे रहे है। इसी बीच कल वाइट हाउस से बोलते हुए ट्रम्प ने एक बार फिर से किम जोंग उन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा की कोरियाई नेता का व्यवहार बहुत ही बुरा है। आवश्यकता होने पर हम अमेरिकी सेना का इस्तेमाल करने के लिए तैयार है और उत्तरी कोरिया के लिए यह बहुत भयानक होगा।

पिछली सरकारों पर लगाए आरोप

ट्रम्प ने कहा की ये सब पिछली सरकारों का किया धरा है। उत्तर कोरिया से 15 साल पहले या उससे भी पहले निपट लेना चाहिए था। उस समय ये बहुत आसान होता। लेकिन उन सरकारों ने ऐसा नहीं किया। बल्कि वे सभी मेरे लिए कई दिक्कते छोड़ गए। मै उन सभी परेशानियों को हटा दूंगा। हम सभी मिल कर निर्णय करेंगे की उत्तर कोरिया का क्या किया जाए। ट्रम्प ने इस बात को फिर से दोहराई की उत्तर कोरिया के परमाणु हथियार दुनिया के लिए बड़ा खतरा है। दुनिया के सभी देशो को मिल कर इस और कदम उठाने चाहिए एवं उत्तर कोरिया को परमाणु मुक्त बनाने के लिए मदद करनी चाहिए। ट्रम्प के इस बयान के दौरान उनके साथ वाइट हाउस में स्पेन के प्रधानमंत्री भी थे।

फ्रांस और चीन ने किया ट्रम्प नीति का विरोध

ट्रम्प के तीखे तेवरों का फ्रांस और चीन की सरकार ने साफ़ शब्दों में विरोध किया है। फ्रांस की सरकार की तरफ से जारी एक आधिकारिक बयान में कहा गया की उत्तर कोरिया के साथ चल रहे परमाणु विवाद को सुलझाने के लिए डोनाल्ड ट्रम्प की नीतियां उचित नहीं है। उन्हें इस मसले को कूटनीतिक समझदारी से सुलझाना चाहिए। चीन के विदेश मंत्रालय ने भी ऐसा ही एक बयान जारी किया। चीन का बयान डोनाल्ड ट्रम्प के बयान की प्रतिक्रिया के रूप में जारी किया गया। इसमें कहा गया की अमेरिकी सेना कार्यवाही का हल उचित नहीं है। विवाद को सुलझाने का ये एक अच्छा उपाय नहीं।

हवाई के नागरिकों को परमाणु हमले की चेतावनी

अमेरिका के राज्य हवाई ने अपने नागरिकों को परमाणु हमले की स्थितियों के लिए तैयार रहने को कहा है। राज्य अधिकारी ने कहा की यह आधिकारिक तौर पर चेतावनी नहीं है लेकिन फिर भी हमारी व्यक्तिगत इच्छा है की नागरिक लोग हर तरह की मुसीबत के लिए तैयार रहे। हवाई के एक स्थानीय अखबार ने दावा किया है की राज्य के अधिकारियों ने हाल ही में गुप्त मीटिंग की है जिसमे परमाणु हमले के बाद की मुसीबतों से निपटने पर मंथन हुआ।

अमेरिकी सेना – मेक्सिको की दीवार का निर्माण कार्य शुभारम्भ

अमेरिका और मेक्सिको की सीमा पर ट्रम्प प्रशासन की तरफ से बनाई जा रही अति-विशिस्ट दीवार का काम शुरू हो गया है। फिलहाल 30 फ़ीट ऊँची और 30 फ़ीट लम्बी प्रोटोटाइप दीवार बनाई जा रही है। यह सेंसर और कैमरा से लेस होगी। पूरी दीवार बनाने में 9858 करोड़ की लागत आने का अनुमान है।

LEAVE A REPLY