सऊदी अरब की खूबसूरत महिलाओं के लिए नया कानून

152

सऊदी अरब की सुंदरता और खूबसूरती से भला कौन अनजान है ? लेकिन क्या आप जानते है की इस खूबसूरत इतिहास और जादुई वर्तमान वाले देश में कई क़ानून ऐसे भी रहे है जिन पर एक बार में विश्वास नहीं होता। ऐसे कई नियमों के लिए सऊदी अरब सुर्खियों में बना रहता है। ऐसा ही एक नया कानून हाल ही में सऊदी अरब सरकार ने बदला है। अब इस देश की खूबसूरत महिलाओं को जल्द ही सड़क पर वाहन चलाने का अधिकार मिल जाएगा। गौरतलब है की सऊदी में शरिया कानून लागू है जिसके कारण वहा की महिलाओं को कड़े प्रतिबंधों में रहना पड़ता है।

27 सालों से लागु है प्रतिबंध

सऊदी अरब एक मुस्लिम मुल्क है। वहाँ पर इस्लाम के कानूनों के मुताबिक़ शरीया कानून चलता है। इस्लाम में महिलाओं पर अनेक प्रकार के प्रतिबन्ध लगे होते है। यही प्रतिबन्ध शरिया कानून के द्वारा सऊदी में भी लगे है। 1990 में पहली बार एक महिला को कार चलाने के जुर्म में गिरफ्तार किया गया था। नया कानून आने के बाद से वे खुद अपना वाहन चला पाएंगी।

यह है इस्लाम के मौलवियों का कहना

1990 में औरतों के वाहन चलाने के खिलाफ कानून बनने के वक़्त से ही इसके खिलाफ वहां की महिलाये आवाज़ उठाती रही है। वही इस्लाम के रखवालो का कहना है की इस्लाम महिलाओं को वाहन चलाने की इजाजत नहीं देता। उनका कहना है की महिलाओं को वाहन चलाने की आजादी मिलने से उनकी विर्जिनिटी पर खतरा आ जाएगा। लड़किया घर से बाहर रहेंगी तो गैर मर्दों के करीब आएँगी और उनसे शारीरिक सम्बन्ध भी बना सकती है। इस तरह से इस्लाम खतरे में पड़ जाएगा।

महिलाओं ने लड़ी लम्बी लड़ाई

सन 1990 में पहली बार एक साथ 40 से ज्यादा औरतों ने राजधानी की सड़कों पर वाहन चला कर गिरफ्तारी दी थी। उसी समय से महिलाओं ने अलग अलग तरह से इकठ्ठा हो कर इस कानून के खिलाफ आवाज़ उठाना शुरू कर दिया था। कई बार गिरफ्तारियां की और आंदोलन किये। “वुमन तो ड्राइव” और “वुमन कैन ड्राइव” के नाम से कई कैंपेन चलाये गए। पिछले कुछ समय से ऑनलाइन मीडिया, सोशल प्लेटफॉर्म्स पर भी इन कैंपेन को काफी मजबूती मिली। कई सामाजिक सुधार संघटनो ने इन आंदोलनों का समर्थन किया। नया कानून लाने में सोशल मीडिया ने बहुत मदद की।

नया कानून : अभी भी करना होगा एक साल इंतज़ार

सऊदी के सुलतान सलमान ने एक आदेश जारी कर जून 2018 से महिलाओं को वाहन चलाने की अनुमति दे दी है। लेकिन यह सब अभी भी इतना आसान नहीं है। सुलतान ने सरकार को आदेश दिया है की 1 महीने में समिति बना कर बताया जाए की इस आदेश को किस तरह से लागू किया जाए। साथ ही इसके प्रभावों पर भी नजर डाली जाए। सब कुछ ठीक रहा तो लगभग एक साल बाद आप सऊदी की महिलाओं को सड़क पर सुन्दर गाड़िया चलाते देख पाएंगे। हालांकि अभी यह साफ़ नहीं है की नया कानून में  महिलाये कैब ड्राइवर की नौकरी कर पाएंगी या नहीं।

LEAVE A REPLY