कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान का पकड़ा गया एक और झूठ

21

अपने झूठे वादों और बदनीयती के लिए पाकिस्तान लगातार अंतर्राष्ट्रीय मीडिया में बदनाम हो रहा है। और हो भी क्यों नहीं, आखिर उसके पास झूठ और पाखण्ड के सिवा कुछ है भी तो नहीं। पिछले हफ्ते पाकिस्तान ने जम्मू में आतंक के नाम पर एक फोटो यूएन के सामने रखी थी जो की वहा की थी ही नहीं। इसी बात पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय ने पाकिस्तान की जम कर खिल्ली उड़ाई थी। ऐसा ही पाकिस्तान का एक और झूठ हालिया पकड़ में आया है। यह झूठ पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय अफसर कुलभूषण जाधव के बारे में है।

ये झूठ कहा पाकिस्तान ने

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ़ ने दावा किया की उन्हें भारतीय कैदी कुलभूषण जाधव के बदले में एक अफगानी कैदी की अदला-बदली का प्रस्ताव मिला है। यह अफगानी कैदी सन 2014 में पेशावर में हुए बम धमाकों के लिए जिम्मेदार है। आसिफ़ ने न तो ये कैदी का नाम बताया और न ही उस अफसर का नाम जिसने उन्हें यह प्रस्ताव दिया।

हालांकि आसिफ ने इतना जरूर बताया की उन्हें यह प्रस्ताव एनएसए के एक अफसर के माध्यम से मिला है। पाकिस्तानी विदेश मंत्री ने यह उल्लेख न्यूयॉर्क में हुए एशिया सोसाइटी सम्मेलन में 26 सितम्बर 2017 को किया।

इस तरह खुली पाकिस्तानी झूठ की पोल

झूठे पाकिस्तानी दावे उसके दोस्त चीन के सामन की तरह हो चले है जो तुरंत ही फुस्स हो जाते है। पाकिस्तान के झूठे वादे की पोल खुद अफ़ग़ानिस्तान के राष्ट्रिय सुरक्षा सलाहकार हनीफ अतमार ने खोली। उन्होंने कहा की 21 सितम्बर 2017 को न्यूयॉर्क में पाकिस्तानी विदेश मंत्री से हुई मुलाक़ात में भारत या भारतीय नागरिक का कोई उल्लेख नहीं था। पाकिस्तान की तरफ से किया जा रहा दावा पूरी तरह से झूठा और खोखला है।

अतमार को आशा थी की पाकिस्तान मीटिंग के बारे में गलत सूचना जारी नहीं करेगा लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने बताया की उनकी मीटिंग में पाकिस्तान स्थित शरणार्थी कैंप के बारे में बात हुई एवं पाकिस्तान की जेल में बंद 5 प्रमुख तालिबान कैदियों के प्रत्यर्पण की बात हुई। भारत से जुड़े किसी भी मुद्दे या भारतीय नागरिक का उनकी मुलाक़ात में कोई उल्लेख नहीं हुआ।

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रविश कुमार ने पाकिस्तानी के काल्पनिक झूठ पर अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का ध्यान खिंचा। उन्होंने अफगानी राष्ट्रिय सुरक्षा सलाहकार की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा की यह साफ़ है की पाकिस्तान झूठ पर झूठ बोले जा रहा है। उसके गलत दावों की फेहरिश्त में एक झूठ और जुड़ गया है।

कुलभूषण जाधव की अभी तक कोई खबर नहीं

इधर कुलभूषण जाधव के मसले को लगातार राजनीतिक रंग दिया जा रहा है और उधर जाधव का परिवार अत्यंत चिंतित है। कुलभूषण को पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है। उसके बाद से किसी भी भारतीय रिप्रेजेन्टेटिव या कुलभूषण के परिवार सदस्य को उनसे मिलने नहीं दिया गया है। संभावना है की पाकिस्तान ने जाधव को बहुत बुरी हालत में रखा हुआ है। कई बार अमेरिका के कहने के बावजूद पाकिस्तान ने अभी तक कुलभूषण को सभी की नजरो से दूर रखा हुआ है।

भारतीय नौसैनिक अफसर कुलभूषण जाधव पर पाकिस्तान में जासूसी और देश-विरोधी हरकतों के आरोप है। भारत ने आरोपों को बेबुनियाद और झूठा बताया है। पाकिस्तान अभी तक इस बारे में एक भी पुख्ता सबूत पेश नहीं कर पाया है। अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय ने पाकिस्तान को सख्त आदेश दिए है की जाधव को फांसी न दी जाए।

LEAVE A REPLY